मुम्मी की रोटी

मुम्मी की रोटी गोल गोल
पापा का पैसा गोल गोल
दादा का चश्मा गोल गोल
दादी की बिंदी गोल गोल
तू और मैं गोल मटोल

6 Comments

  1. NS said,

    March 5, 2007 at 10:30 am

    बहूत सुंदर, बच्चों के लिए बहूत ही माधूर और मा का प्यार लिए हुएI

  2. neraj said,

    May 8, 2009 at 12:50 pm

    bhai sahaab mast poem hai

  3. August 28, 2009 at 8:01 am

    वाह !!! अच्छा और अलग है !!!

    आखरी लाईनें मैनें कुछ ऐसी सुनी हैं :

    हम भी गोल, तुम भी गोल,
    सारी दुनिया गोल मटोल !!!

  4. AMAR MANGTANI said,

    October 2, 2009 at 9:39 am

    August 28, 2009 at 8:01 am

    वाह !!! अच्छा और अलग है !!!

    आखरी लाईनें मैनें कुछ ऐसी सुनी हैं :

    हम भी गोल, तुम भी गोल,
    सारी दुनिया गोल मटोल

  5. AMAR said,

    May 14, 2010 at 2:39 pm

    VERRY NICE POEM

  6. bavajan said,

    January 18, 2012 at 6:40 pm

    a very very different rhym


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: